2 साल बाद सार्वजनिक मंच पर बोलती दिखीं नूपुर शर्मा, राहुल के हिंदू वाले बयान पर अब क्या कह दिया...

Global Bharat 06 Jul 2024 2 Mins 727 Views
2 साल बाद सार्वजनिक मंच पर बोलती दिखीं नूपुर शर्मा, राहुल के हिंदू वाले बयान पर अब क्या कह दिया...

एक टीवी कार्यक्रम में विवादास्पद बयान देने के करीब 2 साल बाद नूपुर शर्मा किसी सार्वजनिक मंच पर बोलते हुए नजर आई है और राहुल गांधी के द्वारा लोकसभा में दिए गए बयान को लेकर अपनी बात रखी है. मीडिया रिपोर्ट्स से जानकारी मिली है कि नूपुर शर्मा गाजियाबाद के एक गांव में आयोजित भागवत कथा के दौरान दो साल बाद पहली बार सार्वजनिक मंच पर बोलती हुई देखी गई. इस दौरान पूर्व BJP नेता नूपुर शर्मा ने खुलकर अपनी राय रखी है.

नूपुर शर्मा ने आरोप लगाया है कि भारत में हिन्दू यानी सनातनियों को मिटाने की साजिश चल रही, जिसे वह खुद महसूस कर चुकी है. उन्होंने राहुल गांधी का नाम लिए बिना उनपर निशाना साधा है. नूपुर ने कहा कि जब ऊंचे पदों पर बैठे लोग हिन्दू को हिंसक कहते हैं तो कोई कुछ नहीं बोलता है. वहीं अन्य लोग कहते हैं सनातनियों का सफाया कर दो तो भी कोई कुछ नहीं कहता है. इसलिए हमें साजिश को समझना चाहिए.

नूपुर शर्मा ने कहा है कि अगर देश में हिन्दू हिंसक होता तो एक हिन्दू बेटी को इतनी सुरक्षा की जरूरत नहीं पड़ती. उन्होंने कहा वे कुछ भी कहे तो वाह-वाह और हम कुछ कहें तो सर तन से जुदा. ऐसा नहीं चलेगा. हमरा देश संविधान से चलेगा न कि किसी मजहबी या शरिया लॉ के हिसाब से चलेगा.

दरअसल, लोकसभा में चर्चा के दौरान भगवान शिव की तस्वीर हाथों में लेकर राहुल गांधी ने कहा था कि शिवजी ने कहा है कि डरो मत, डराओ मत और अभय मुद्रा दिखाते हैं. हिन्दू धर्म में कहीं भी हिंसा की बात नहीं है, लेकिन जो अपने आप को हिंदू कहते हैं वो 24 घंटे हिंसा की बात करते हैं, नफरत फैलाते हैं, इसलिए आप हिन्दू हो ही नहीं. राहुल ने कहा था कि हिन्दू धर्म में साफ लिखा है कि सच का साथ देना चाहिए.

इस दौरान सदन में जोरदार हंगामा देखने को मिली थी. तभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि पूरे हिन्दू समाज को हिंसक कहना गंभीर बात है. इसपर राहुल ने कहा था मैंने आपको कहा है न कि पूरे हिन्दू समाज को और पीएम मोदी व बीजेपी पूरा हिन्दू समाज नहीं है.

इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि विपक्ष के नेता ने जो कहा है, वह गलत है राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने कहा कि इस देश में करोड़ों लोग अपने आपको हिन्दू कहते हैं. इसलिए राहुल गांधी से गुजारिश करता हूं कि वो अभय मुद्रा पर इस्लामिक विद्वानों की भी राय लें और हिन्दू समाज से माफी मांगे. वहीं अब दावा किया जा रहा है कि राहुल गांधी के इसी भाषण में से कुछ विवादास्पद अंश हटा लिए गए हैं.

वहीं नूपुर शर्मा के उक्त कार्यक्रम में शामिल होने को लेकर आयोजक भास्कर गांधी ने कहा कि दुर्गा मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था. इसी कार्यक्रम में नूपुर शर्मा भी शामिल हुई थी. बता दें कि राहुल गांधी के बयान देने के बाद हाल ही में नूपुर शर्मा ने भी प्रतिक्रिया दी थी. उन्होंने सोशल मीडिया x पर पोस्ट कर कहा था कि हिंसक हिन्दू नहीं बल्कि वे लोग हैं, जो हिन्दुओं को खत्म करने की बात करते हैं.

पोस्ट में नूपुर शर्मा ने लिखा था कि हिंसक हिंदू नहीं बल्कि वो हैं जो हिंदुओं के नरसंहार की बात करते हैं. धर्म एव हतो हन्ति धर्मो रक्षति रक्षितः. तस्माद्धर्मो न हन्तव्यो मा नो धर्मो हतोऽवधीत्. अर्थात- जो स्वधर्म (हिंदू) विमुख होकर धर्म का विनाश कर देता है, उस का विनाश धर्म कर देता है. जो धर्म की रक्षा करता है, धर्म उसकी रक्षा करता है.

Recent News