शहबाज शरीफ बने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री, पहना कांटों का ताज

Global Bharat 04 Mar 2024 2 Mins
शहबाज शरीफ बने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री, पहना कांटों का ताज

शहबाज़ शरीफ अप्रैल 2022 से अगस्त 2023 तक की उथल-पुथल भरी अवधि के बाद, पाकिस्तान के प्रधान मंत्री के रूप में अपना दूसरा कार्यकाल शुरू करने के लिए तैयार हैं। सोमवार को राष्ट्रपति के निवास पर एक समारोह में, राष्ट्रपति आरिफ अल्वी प्रशासन करेंगे 72 वर्षीय राजनेता को शपथ, जिन्होंने उत्साही विरोध के बीच हाल ही में निर्वाचित संसद में बहुमत हासिल किया।

इससे पहले, शहबाज शरीफ ने पिछले महीने आम चुनाव बुलाए जाने से पहले गठबंधन सरकार का नेतृत्व किया था। विपक्षी उम्मीदवार उमर अयूब खान के 92 वोटों के मुकाबले 201 वोटों के साथ उनकी जीत ने सत्ता में उनकी वापसी को चिह्नित किया। उद्घाटन में पाकिस्तान सेना प्रमुख जनरल असीम मुनीर, कार्यवाहक प्रधान मंत्री अनवारुल हक काकर और विभिन्न प्रांतों के नेताओं सहित उल्लेखनीय हस्तियों के शामिल होने की उम्मीद है।

आर्थिक संकट

शहबाज शरीफ के नेतृत्व वाली सरकार को कई आर्थिक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, जिसमें बढ़ती मुद्रास्फीति, उच्च बेरोजगारी दर, पर्याप्त ऋण बोझ और सुस्त ऊर्जा विकास शामिल हैं। आर्थिक अस्थिरता ने बुनियादी खाद्य उत्पादों और बिजली बिल जैसी आवश्यक वस्तुओं की कीमतों पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। इन चुनौतियों को कम करने के लिए राजस्व सृजन, निर्यात-आधारित विकास, वित्तीय प्रबंधन और विदेशी निवेश को आकर्षित करने सहित तत्काल उपाय आवश्यक हैं।

राजनीतिक अस्थिरता

75 सीटों के साथ गठबंधन सरकार जीतने के बावजूद, शहबाज़ शरीफ़ का प्रशासन संदेह और जनता के विश्वास की कमी का सामना कर रहा है। भ्रष्टाचार, राजनीतिक अशांति और शासन और नीति निर्माण में चुनौतियों के आरोपों के साथ राजनीतिक परिदृश्य ध्रुवीकृत बना हुआ है। संघीय और प्रांतीय सरकारों के बीच संघर्ष विकास परियोजनाओं और राष्ट्रीय नीतियों के कार्यान्वयन में और बाधा डालता है।

उग्रवाद और सुरक्षा चिंताएँ

पाकिस्तान की सुरक्षा स्थिति आने वाली सरकार से तत्काल ध्यान देने की मांग करती है। इस्लामिक स्टेट और तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) समेत आतंकवादी संगठनों ने खासकर खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान में हमले तेज कर दिए हैं। अफगानिस्तान के साथ सीमा तनाव सुरक्षा चुनौतियों की जटिलता को बढ़ाता है।

2023 में, पाकिस्तान में आतंकवादी हमले 2016 के बाद से नहीं देखे गए स्तर पर पहुंच गए, जिसमें लगभग 550 सुरक्षा कर्मियों और 400 नागरिकों की जान चली गई। पाकिस्तान की पूर्व संयुक्त राष्ट्र प्रतिनिधि मलीहा लोधी के अनुसार, आतंकवादी गतिविधि में वृद्धि और अन्य सुरक्षा चिंताओं को दूर करने के लिए शहबाज शरीफ के प्रशासन और सैन्य प्रतिष्ठान के बीच सहयोग महत्वपूर्ण है।

जैसे ही शहबाज शरीफ सत्ता संभालेंगे, देश यह देखने के लिए उत्सुकता से देख रहा है कि उनकी सरकार इन जटिल चुनौतियों से कैसे निपटेगी और पाकिस्तान को स्थिरता और समृद्धि की ओर ले जाएगी।

About Author

Global Bharat

Global's commitment to journalistic integrity, thorough research, and clear communication make him a valuable contributor to the field of environmental journalism. Through his work, he strives to educate and inspire readers to take action and work towards a sustainable future.

Recent News