अदाणी समूह के मुंद्रा पोर्ट ने पूरे किए संचालन और अद्वितीय विकास के शानदार 25 साल

Global Bharat 09 Oct 2023 3 Mins
अदाणी समूह के मुंद्रा पोर्ट ने पूरे किए संचालन और अद्वितीय विकास के शानदार 25 साल

▪️260 एमएमटी से अधिक क्षमता के साथ दुनिया के सबसे बड़े पोर्ट में से एक
▪️वित्त वर्ष 23 में 155 एमएमटी से अधिक का परिवहन किया गया, जो भारत के समुद्री कार्गो का लगभग 11% है
▪️कंटेनर ट्रैफिक के लिए ईएक्सआईएम गेटवे, भारत का 33% कंटेनर ट्रैफिक पोर्ट से होकर बहता है
पोर्ट ने शुरुआत से राज्य और राष्ट्रीय खजाने में 2.25 लाख करोड़ रुपये से अधिक का योगदान दिया
▪️पिछले 25 वर्षों में 7.5 करोड़ से अधिक मैन डेज निर्मित किए हैं

मुंद्रा, 9 अक्टूबर 2023: एक ऐतिहासिक यात्रा की स्मृति के रूप में, मुंद्रा पोर्ट (Mundra Port) विश्व स्तर पर सबसे बड़े पोर्टस में से एक के तौर पर, अपने विस्तार और विकास को जाहिर करते हुए, 25 साल के पाथ ब्रेकिंग संचालन का जश्न मना रहा है। 7 अक्टूबर, 1998 को अपना पहला जहाज, एमटी अल्फा स्थापित करने के बाद से, पोर्ट ने लगातार एक दूरदर्शी दृष्टिकोण अपनाते हुए अटूट महत्वाकांक्षा और त्रुटिहीन निष्पादन का प्रदर्शन किया है, जिससे पोर्ट को वैश्विक मानचित्र पर प्रमुख और तकनीकी रूप से उन्नत पोर्टस में से एक के रूप में स्थान मिला है। (मुंद्रा पोर्ट की विस्तृत समयसीमा के लिए, अनुबंध 1 देखें।)

मुंद्रा पोर्ट ने पैदा किए करोड़ों रोजगार

एक महत्वपूर्ण ट्रेड गेटवे के रूप में उभरते हुए, मुंद्रा पोर्ट एक मल्टीमॉडल हब के तौर पर विकसित हुआ है जो व्यापार को बढ़ावा देने के साथ साथ आर्थिक प्रगति को मजबूत करता है। अपनी मामूली शुरुआत से लेकर यह महत्वपूर्ण रूप से आगे बढ़ा है और पिछले 25 वर्षों में राज्य और राष्ट्रीय खजाने में 2.25 लाख करोड़ रुपये से अधिक का योगदान दिया है, जो भारत के आर्थिक निर्माण में इसकी मुख्य भूमिका को दर्शाता है। साथ ही, इसने स्थापना के बाद से 7.5 करोड़ मानव दिवस से अधिक रोजगार उत्पन्न किया है।

मुट्ठी भर टन से 115 MMT तक का सफर

1998 में मुट्ठी भर टन से, मुंद्रा ने 2014 में 100 एमएमटी का प्रबंधन किया, जो ऐसा करने वाला भारत का पहला पोर्ट था। आज, यह पोर्ट 155 एमएमटी (फिर से भारत में पहला) से अधिक का प्रबंधन करता है, जो भारत के समुद्री कार्गो का लगभग 11% है। मुंद्रा कंटेनर ट्रैफिक के लिए ईएक्सआईएम गेटवे भी है। असल में, भारत का 33% कंटेनर ट्रैफिक एक समर्पित कार्गो कॉरिडोर के माध्यम से मुंद्रा पोर्ट के जरिए बहता है जो उत्तरी भीतरी इलाकों से मुंद्रा तक डबल-स्टैक कंटेनरों की एक अनूठी सुविधा प्रदान करता है।

मुंद्रा मेरे लिए पोर्ट से कहीं अधिक है- गौतम अदाणी

इस अवसर पर बोलते हुए, अदाणी समूह के अध्यक्ष श्री गौतम अदाणी ने कहा, "मुंद्रा, मेरे लिए, सिर्फ एक पोर्ट से कहीं अधिक है। यह पूरे अदाणी समूह के लिए संभावनाओं के क्षितिज का समुंद्री तट है। 25 साल पहले, जब हमने इस यात्रा की शुरुआत की थी, इस दौरान, हमने एक ऐसे प्रकाशस्तंभ का सपना देखा था जो भारत के आगे बढ़ने का प्रतिनिधित्व करेगा। इस प्रतिबद्धता की धड़कन न केवल मुंद्रा में, बल्कि पूरे देश में गूंजती है और प्रत्येक स्टेकहोल्डर के विश्वास में गूंजती है, जिन्हे हमारे साथ इस यात्रा पर चलने का भरोसा था। हमारे सिल्वर जुबली के अवसर पर, मुंद्रा वह गवाह है जो सोच, संघटन और एक एकजुट समुदाय का सामंजस्य होने पर क्या अद्भुत चीजें हो सकती हैं, यह दिखाता है। अपने कर्मचारियों और भागीदारों के साथ, हमने केवल एक पोर्ट का निर्माण नहीं किया है; बल्कि, हमने एक वैश्विक उत्कृष्टता का प्रतीक निर्मित किया है, जिसने पूरे क्षेत्र को परिवर्तित किया है और नए नक्शों को तैयार किया है। हमारा आत्मविश्वास कभी भी इतना ऊंचा नहीं था और मुंद्रा वैश्विक कैनवास पर नए मानक स्थापित करते हुए आगे बढ़ना जारी रखेगा।''

अभी तो हमारी यात्रा शुरू हुई है- करण अदाणी

इस मौके पर सीईओ और पूर्णकालिक निदेशक, श्री करण अदाणी ने कहा, “आज, मुंद्रा विश्व स्तरीय इंफ्रास्ट्रक्चर का प्रदर्शन कर रहा है और जो कोई भी मुंद्रा को देखता है वह सहमत होगा कि यह गौतम अदाणी जैसे अग्रणी उद्यमियों की दृष्टि और दृढ़ संकल्प के लिए एक बहुत ही स्पष्ट श्रद्धांजलि है, जिन्होंने बड़ा सोचना और दीर्घकालिक सोचने से इनकार कर दिया। केवल 25 वर्षों में मुंद्रा के इस बहुआयामी परिवर्तन को हम राष्ट्र निर्माण में अदाणी समूह के विनम्र योगदान के रूप में देखते हैं। जो कभी बंजर था वह अब भारत का एक्जिम गेटवे और व्यापार व वाणिज्य के लिए एक असाधारण वैश्विक केंद्र है। मैं बहुत आत्मविश्वास से कहूंगा कि हम भारत के विकास के लिए एक शक्तिशाली उत्प्रेरक बनाने में सफल रहे हैं और मुझे यह भी विश्वास है कि हमारी यात्रा अभी शुरू हुई है। मुंद्रा पोर्ट निर्बाध मल्टीमॉडल कनेक्टिविटी के साथ विशाल उत्तरी भीतरी इलाकों में सेवा प्रदान करता है। …

https://www.youtube.com/watch?v=S8oyRj8UDbM

About Author

Global Bharat

Global's commitment to journalistic integrity, thorough research, and clear communication make him a valuable contributor to the field of environmental journalism. Through his work, he strives to educate and inspire readers to take action and work towards a sustainable future.

Recent News