72 घंटे में पूरा हुआ 'मिशन लॉरेंस का गुर्गा', मूसेवाला का आरोपी सचिन बिश्नोई खोलेगा गुनाहों का राज!

Global Bharat 01 Aug 2023 3 Mins
72 घंटे में पूरा हुआ 'मिशन लॉरेंस का गुर्गा', मूसेवाला का आरोपी सचिन बिश्नोई खोलेगा गुनाहों का राज!

30 जुलाई को दिल्ली पुलिस के चार अधिकारी, नई दिल्ली एयरपोर्ट से अजरबैजान के लिए रवाना हुए, करीब 8 घंटे में फ्लाइट वहां पहुंची और सीधा उस जगह पर पहुंचे जहां लॉरेंस बिश्नोई के भांजे सचिन बिश्नोई को पुलिस ने कई दिनों से कैद कर रखा था, पहले फाइल से फोटो मिलाई, निशान मिलाए और फिर कागजी प्रक्रिया पूरी कर उसे साथ लेकर निकल गए, एय़रपोर्ट तक वहां की पुलिस ने सुरक्षा दी और वहां से फ्लाइट में आने के दौरान दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर से उनका सीधा संपर्क रहा, कहते हैं फेसबुक पोस्टर पर लंबी-लंबी डिंगे हांकने वाला औऱ मूसेवाला की मौत की जिम्मेदारी लेने वाला सचिन बिश्नोई फ्लाइट में गुमशुम बैठा हुआ था, वो ये सोच रहा था कि जब सबकुछ बदल लिया तो मैं पकड़ा कैसे गया, तो वो कहानी भी सुन लीजिए, फिर बताते हैं अब सचिन बिश्नोई से मूसेवाला केस के अलावा पुलिस को और कौन से राज उगलवाने हैं.

लॉरेंस का भांजा सचिन बिश्नोई गिरफ्तार

सचिन बिश्नोई पासपोर्ट

सचिन बिश्नोई का फर्जी पासपोर्ट

ये सचिन बिश्नोई का पासपोर्ट है, जिसमें नाम तिलक राज टूटेजा, पिता का नाम भीम सेन और माता का नाम खुशी देवी लिखा है. जो एड्रेस यानि पता है उसकी जगह लिखा है 330, Block F-3, संगम विहार, दिल्ली, और पासपोर्ट जारी करने की तिथि है 13 अप्रैल 2022. मतलब ये कि मूसेवाला की मौत की प्लानिंग से पहले ही सचिन बिश्नोई ने अपना फर्जी पासपोर्ट तैयार करवा लिया था.

चूंकि मूसेवाला को इन्होंने 29 मई 2022 को निशाना बनाया और ये पासपोर्ट 13 अप्रैल को जारी हुआ, जिसका मतलब था इसे ये आशंका थी कि वारदात के बाद जब पुलिस ढूंढेगी तो विदेश भाग जाऊंगा, और लॉरेंस के इशारे पर इसने ऐसा ही किया. लेकिन यहां इसने एक गलती कर दी.

सचिन बिश्नोई से हो गई अपना लुक ना बदलने की भूल
सचिन बिश्नोई ने अपना लुक नहीं बदला, आम तौर पर विदेश भागने वाले अपराधी अपना हुलिया बदल लेते हैं, ताकि पहली नजर में पुलिस की पकड़ में न आएं, यूपी का मोस्ट वॉन्टेड अपराधी बदन सिंह बद्दो आज तक लुक बदलने की वजह से ही पकड़ में नहीं आ सका है, ऐसे ही कई अपराधी और भी हैं, जो मिनटों में अपना हुलिया बदल लेते हैं. चूंकि इस डिजिटल जमाने में विदेश तक फोटो पहुंचने में सेकेंड भी नहीं लगता, इसलिए जब सचिन बिश्नोई की फोटो अजरबैजान पुलिस को मिली तो उन्होंने एक झटके में ही इसे पहचानकर अरेस्ट कर लिया , हालांकि अगर इसने हुलिया बदला भी होता तो ज्यादा दिनों तक कानून के हाथ से दूर नहीं रह पाता. कुछ दिन पहले ही एनआईए ने लॉरेंस के राइट हैंड विक्रम बराड़ को विदेश से ही गिरफ्तार किया है. अब इन दोनों के हिंदुस्तान लाए जाने के बाद से जो राज खुलने वाले हैं, वो लॉरेंस के भी नींद उड़ा देगा. कुछ दिन पहले ऐसी ख़बर आई थी कि लॉरेंस अपनी गैंग के लिए भर्ती निकाल रहा है और वो खुद उन्हें ट्रेनिंग देने के लिए जेल तोड़कर बाहर आने वाला है, लेकिन अब लॉरेंस की कहानी खत्म होती दिख रही है.

अब बस लॉरेंस के सबसे बड़े गुर्गे में एक ही बाहर बचा है, और वो हो गोल्डी बराड़
जिस दिन वो हिंदुस्तान आया मूसेवाला के परिवार के दिल को ठंड़क मिल पाएगी
अमित शाह ने मूसेवाला के परिवार से एक साल पहले न्याय दिलाने का वादा किया था


आज जब एक के बाद एक आरोपी विदेश से हिंदुस्तान लाए जा रहे हैं तो वो वादा मूसेवाला के पिता को भी याद आ रहा है, जो पंजाब की भगवंत मान सरकार से न्याय की उम्मीद लगभग छोड़ ही चुके थे. अब भांजा अ्पने मामा के कितने राज खोलेगा, कौन-कौन सी नई कहानी खुलने वाली है, सलमान को धमकी से लेकर नए टारगेट तक के कितने खुलासे होंगे इस पर हर किसी की नजर होगी.
ब्यूरो रिपोर्ट ग्लोबल भारत टीवी

https://youtu.be/5C_GJAPnvn0



About Author

Global Bharat

Global's commitment to journalistic integrity, thorough research, and clear communication make him a valuable contributor to the field of environmental journalism. Through his work, he strives to educate and inspire readers to take action and work towards a sustainable future.

Recent News